September 19, 2021

सीएम विंडो सरल भी-पहुंच भी-समाधान भी शिकायतें सीधी मुख्यमंत्री तक पहुंच रही हैं-हो रहा है समाधान जनवरी 2016 से बिजली विभाग के कर्मचारी को मिली संशोधित पेंशन

दक्ष दर्पण समाचार सेवा

चण्डीगढ़, 14 सितंबर – हरियाणा के लोगों की व्यक्तिगत, सामाजिक व सार्वजनिक हित की शिकायतें सुनने व उनका समाधान करने के लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा वर्ष 2016 से आरम्भ की गई सीएम विंडो समाधान का एक सरल, आसान व असरदार तरीका सिद्घ हो रहा है क्योंकि ऐसी शिकायतें हल हुई हैं जिनके बारे सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट-काटकर लोग थक चुके थे और उनके समाधान के बारे सोचना ही बंद कर दिया था।

        मुख्यमंत्री के ओएसडी श्री भूपेश्वर दयाल, जो चण्डीगढ़ मुख्यालय से सीएम विंडो पर शिकायतों की निरंतर समीक्षा व मॉनिटरिंग करते आ रहे हैं, के अनुसार, मुख्यमंत्री की यह व्यवस्था लोगों के लिए ‘सरल पहुंच बनी है क्योंकि शिकायतों का फीडबैक नियमित रुप से मुख्यमंत्री स्वयं लेते हैं ।

        उन्होंने बताया कि सीएम विंडो पर अधिकतर शिकायतें पुलिस, पंचायत, खाद्य एवं आपूर्ति, अवैध खनन, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण, शहरी स्थानीय निकाय, शिक्षा जैसे विभागों के विरुद्घ मिलती हैं। हमारा प्रयास है कि कम से कम समय में शिकायतों का समाधान कर शिकायतकर्ताओं को संतुष्ट किया जाए। कई मामलों में तो गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाकर उनसे रिकवरी भी की गई है।

        श्री भूपेश्वर दयाल ने बताया कि जवाहर नगर, सोनीपत की करिश्मा ने 11 फरवरी, 2020 को शिकायत की थी कि उसने हर्ष कॉलेज ऑफ एजुकेशन पुरखास से सितंबर 2018 में बी0एड0 की डिग्री पास की थी। परन्तु डिग्री देने में कॉलेज यह कह कर आना-कानी कर रहा था विश्वविद्यालय से डिग्री नहीं आई है। विश्वविद्यालय जाती तो कहते कि डिग्री कॉलेज में भेज दी गई है। जब सीएम विंडो पर 2020/015937 शिकायत अपलोड हुई तो कार्यवाही की गई और 21 सितंबर, 2020 उसकी बीएड की डिग्री प्राप्त करवा दी गई है, जिस पर उसने संतुष्टि व्यक्त करते हुए शिकायत वापिस ले ली है।

        इसी प्रकार, एक अन्य मामले में यमुनानगर जिले के गांव हवेली के लक्ष्मणदास ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि वे हरियाणा बिजली वितरण निगम के सढौरा कार्यालय से एएफएम के पद से 31 जनवरी, 2010 को सेवानिवृत्त हुए थे और जुलाई 2020 में आवेदन किया था कि 7वें वेतन आयोग के अनुसार उसकी पेंशन जनवरी 2016 से संशोधित की जाए। परन्तु अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। उन्होंने बताया कि सीएम विंडो पर 2 अगस्त, 2021 को शिकायत नम्बर 2021/061980 अपलोड की गई। सीएम विंडो के माध्यम से प्रार्थी का ईपीओ नम्बर 6956 वरिष्ठ लेखा अधिकारी पेंशन, पंचकूला को भेजा गया। जिस पर तत्काल कार्यवाही हुई और प्रार्थी की संशोधित पेंशन की बकाया राशि 72,712 रुपये चैक नम्बर 460492 के माध्यम से 12 अगस्त, 2021 को भेज दी गई। पेंशनकर्त्ता ने सीएम विंडो का आभार व्यक्त किया।

        उन्होंने बताया कि शंकर विहार कालोनी कंसापुर, यमुनानगर की श्रीमती अनिता देवी ने शिकायत दी थी कि मार्च 2021 में उसके पति का देहांत हो गया था। परन्तु सुधीर पटवारी उसके व बच्चों के नाम जमीन का इंतकाल दर्ज नहीं कर रहा था। सीएम विंडो के संज्ञान के बाद उप-तहसीलदार जगाधरी ने सूचित किया है कि शिकायतकर्ता की जमीन का इंतकाल 24 अगस्त 2021 को दर्ज कर प्रार्थी को इंतकाल की कॉपी दे दी गई थी और उसने लिखित में उसने संतुष्टि दे दी है।

        उन्होंने बताया कि सीएम विंडो द्वारा सालों-साल पुरानी लम्बित शिकायतों का निपटान कर हरियाणा की जनता के समक्ष अनेकों उदाहरण प्रस्तुत किए हैं। जिनकी समाचार पत्रों के साथ-साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी चर्चा हुई है।

Leave a Reply

Previous post राइट टू सर्विस: अधिसूचित सेवाएं और योजनाओं का लाभ निर्धारित समय में मिले आमजन को: डीसी –  डीसी श्याम लाल पूनिया ने विभागाध्यक्षों की बैठक लेते हुए राईट टू सर्विस एक्ट की समीक्षा की – अंत्योदय सरल केंद्रों में राइट टू सर्विस एक्ट के अनुरूप किया जा रहा है आमजन को जागरूक
Next post जवाहर नवोदय विद्यालय, मौली में कक्षा 9 लेट्रल एंट्री परीक्षा 2022-23 में रिक्त सीटों पर प्रवेश के लिये 31 अक्तूबर तक आॅनलाईन आवेदन आमंत्रित-उपायुक्त विनय प्रताप सिंह – 9 अप्रैल 2022 शनिवार को आयोजित की जायेगी परीक्षा-उपायुक्त