September 19, 2021

आज पंजाबियों के बीच टकराए तो पटियाला पैग! लब्बोलुआब, कैप्टन ने स्वीकार कर ली कप्तानी ।

धर्मपाल वर्मा

दक्ष दर्पण समाचार सेवा

चंडीगढ़

आज के कार्यक्रम में कॉन्ग्रेस के पंजाब के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह।

लगता है पंजाब में संगठन में फेरबदल मतलब नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष तथा चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाने के फैसले का कांग्रेस को आने वाले समय में पंजाब ही नहीं पूरे देश में फायदा होने वाला है। कॉन्ग्रेस अगले चुनाव में पंजाब में भी लाभ उठाने की स्थिति में नजर आने लगी है।
आज चंडीगढ़ पंजाब कांग्रेस भवन में पंजाब कांग्रेस कमेटी के नए अध्यक्ष और उनकी टीम की ताजपोशी के समय कई नेताओं की बॉडी लैंग्वेज मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की राजनीतिक परिपक्वता तथा कांग्रेस में एकजुटता का नया संदेश आज के कार्यक्रम की खासियत कहीं जाएंगी। आज यह साफ हो गया कि कांग्रेस में वही होने जा रहा है जो कांग्रेस हाईकमान चाहती है। राहुल गांधी और प्रियंका गांधीचाहती हैं ।आज यह संकेत दीपक के तौर पर मिला कि कैप्टन अमरिंदर सिंह राजनीतिक तौर पर वाक्य में परिपक्व व्यक्ति हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज यह साबित किया कि व्यक्ति उसके बड़प्पन से बड़ा होता है ।

कड़ी के रूप में काम करते रहे हरीश रावत। हाईकमान से मिलेगी शाबाशी

उन्होंने अपने भाषण में कई भावपूर्ण बातें कहीं ।देशभक्ति की बातें कहीं ।कांग्रेस में एकजुटता की बातें कहीं ।बहुत कुछ ऐसी बातें कहीं जो यह साबित कर रही थीकि कैप्टन अमरेंद्र सिंह बड़े दिल के व्यापक दृष्टिकोण के और बड़ी सोच के व्यक्ति हैं ।उन्होंने मंच से यह संकेत देने की कोशिश की कि कुछ छोटे-मोटे मनमुटाव हो सकते हैं लेकिन उनका प्रयास अब भी सिद्धू के मामले में लंबी लाइन खींचने का है। यह छोटी बात नहीं है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू के बचपन उनके पिता और परिवार से पारिवारिक संबंध और साथ मिलकर चलने की बात को बड़े ही भावपूर्ण तरीके से प्रस्तुत किया ।उन्होंने अपने आत्मिक भाव इस तरह से प्रकट किए कि सामने खड़े कांग्रेस जन और आमजन उनकी भावनाओं से प्रभावित नजर आये । कई ऐसे मौके थे जब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ी शिद्दत के साथ अपने करीब लाने की कोशिश की और यह समझाने की कोशिश की कि वह अपनी जगह मतलब मुख्यमंत्री के रूप में हर मामले में दुरुस्त तरीके से चलने की कोशिश करते रहे हैं किसी को गलतफहमी हो तो वह बातों को बेशक वेरीफाई कर ले । कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नशे के मामले ,बादल परिवार संबद्धता के आरोपों के मामले और कई दूसरे मामले संकेतों में इस तरीके से प्रस्तुत किए कि जैसे वह यह कहना चाह रहे हो कि किसी को कोई शक सुबहा तो बातों को जांच लें।

एक कर्मठ कांग्रेस मैन के रूप में कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को शानदार संदेश देने में सफल रहे सुनील जाखड़।

आज के कार्यक्रम से यह लगा कि कांग्रेस में और ज्यादा एकजुटता आएगी और कैप्टन अमरिंदर सिंह परिपक्व तरीके से ही सिद्धू को सहयोग देंगे ।उनकी बातों से लगा कि उन्हें इस बात की चिंता है कि पाकिस्तान चीन और अफगानिस्तान के तालिबान जम्मू कश्मीर के मसले पर एक होकर भारत के हितों पर हमला करने की कोशिश कर सकते हैं। ऐसे में सीमाओं पर फौजेतो लड़ेंगी ही ,पंजाब की जनता को व्यक्तिगत तौर पर भी ऐसी विपरीत परिस्थितियों से लड़ना पड़ेगा। उन्होंने पंजाब की जनता नवजोत सिंह सिद्धू और कांग्रेस जनों को यह संदेश देने की कोशिश मंच से की कि आने वाले समय में एक होकर पंजाब के कल्याण और देश के हितों की लड़ाई शानदार तरीके से लड़नी होगी। उन्होंने आम आदमी पार्टी शिरोमणि अकाली दल मतलब बादलों को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस जनों को एकजुट होकर इन दोनों के दांत खट्टे करने हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यह बात अदब से कहने की कोशिश की कि जब दिल्ली में उनकी श्रीमती सोनिया गांधी से बात हुई और उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की बात की तो उन्होंने इस प्रस्ताव का समर्थन किया और बाहर आकर मीडिया के समक्ष यह बयान दिया था कि श्रीमती सोनिया गांधी और कांग्रेस पार्टी जो फैसला करेगी वह उन्हें मंजूर होगा।
जिन लोगों को यह इस बात का इंतजार था कि मंच पर नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच की दूरियां साफ नजर आएंगी। समझा जाता है कि उन्हें निराशा ही हाथ लगी होगी।
आज के मंच से कई लोगों ने अपनी भड़ास निकाली तो कांग्रेस के वरिष्ठ लोग यह कहते देखे गए की ऐसा होना जरूरी था। मंच पर ऐसी बातें भी सामने आई जिनसे लगा कि कांग्रेस के समर्थक और आम आदमी इस बात से नाराज हैं कि पंजाब सरकार पर अफसरशाही हावी है। आज निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के भाषण की बड़ी चर्चा हुई। उन्होंने एक ईमानदार कर्मठ कांग्रेस मैन के रूप में जो कुछ कहा उसकी बड़ी सराहना की गई। मौके पर उपस्थित कई वरिष्ठ नागरिको ने खुले दिल से कहा किश्री जाखड़ बड़े सुलझे हुए नेता हैं ।उन्होंने कितनी बार यह बात सार्वजनिक तौर पर कही है कि हम जो कुछ है कांग्रेस की बदौलत हैं। यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसमें रहकर उनके स्वर्गीय पिता बलराम जाखड़ लोकसभा के स्पीकर रहे ,केंद्र सरकार में कृषि मंत्री रहे और उन्हें और उनके परिवार को पंजाब में पोलिटिकल स्टेटस मिला। उन्होंने कांग्रेस जनों में एकजुटता की अपील बहुत ही प्रभावी तरीके से की। आज के कार्यक्रम में एक बात और देखी गई कि किसी भी पार्टी के लिए प्रभारी बहुत महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में काम करता है ।वक्ताओं ने हरीश रावत को अपने अपने तरीके से सम्मान दिया।
नए प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी परंपरागत शैली में ही अपनी बात कही और संगठन को मजबूत करने कार्यकर्ताओं का दिल जीतने उन्हें सम्मान देने और पंजाब को फिर से देश का एक नंबर का राज्य बनाने और अपने कार्यक्रमों को लेकर जो कुछ कहा वह उनके आत्मविश्वास और जज्बे को दर्शा रहा था ।कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि पंजाब में आने वाला समय कांग्रेस के लिए काफी अच्छा रह सकता है और पंजाब की कांग्रेस की परिस्थितियों का दूसरे प्रदेशों तथा पूरे देश में सीधा असर पड़ सकता है ।

Previous post लड़की से मिलने आए प्रेमी को परिवार वालों ने उतारा मौत के घाट
Next post @अब कांग्रेस राजस्थान पर करेगी फोकस। हरीश रावत जैसी भूमिका में है प्रभारी अजय माकन। मंत्रिमंडल मे फेरबदल की सुगबुगाहट।