July 24, 2021

कुमारी शैलजा ने कहा जासूसी प्रकरण में त्यागपत्र दे गृह मंत्री अमित शाह

धर्मपाल वर्मा

दक्ष दर्पण समाचार सेवा 

चंडीगढ़

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस मोदी सरकार द्वारा असंवैधानिक तरीके से देश के नागरिकों के मौलिक अधिकारों के साथ खिलवाड़ करते हुए उनकी जासूसी करवाने के विरोध में वीरवार 22 जुलाई को रोष मार्च निकालेगी। यह रोष मार्च प्रात: 10.00 बजे प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से हरियाणा राजभवन तक निकाला जायेगा। इस रोष मार्च में हरियाणा में पार्टी मामलों के प्रभारी श्री विवेक बंसल विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे और हरियाणा कांग्रेस के विधायक, वरिष्ठ नेतागण व कार्यकत्र्ता भारी संख्या में शामिल होंगे।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा कुमारी सैलजा ने यह जानकारी आज चंडीगढ़ स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार द्वारा श्री राहुल गांधी समेत देश के विपक्षी नेताओं, सम्मानित न्यायधीशों, पत्रकारों तथा संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों की जासूसी करवाना एक ज्वलंत मुद्दा है। पेगासस स्पाइवेयर द्वारा जासूसी किए जाने का खुलासा अंतराष्ट्रीय स्तर पर हुआ है परंतु भाजपा सरकार द्वारा इस मुद्दे पर कोई ठोस कार्यवाही करने की बजाये इस जासूसी प्रकरण को दबाने के लिए अनाप-शनाप बयानबाजी की जा रही है। उन्होंने कहा कि केवल भारत ही नहीं लगभग 45 देशों द्वारा इस स्पाइवेयर को प्रयोग किए जाने का खुलासा हुआ है, लेकिन बड़े ही दुख की बात है कि हमारी सरकार आज तक यह नहीं बता पाई कि उसने यह जासूसी यंत्र खरीदा है या नहीं खरीदा है, अगर खरीदा है तो कितने रूपयों में खरीदा है।

कुमारी सैलजा ने कहा कि इजरायली पेगासस स्पाइवेयर और सभी एनएसओ उत्पाद विशेष रूप से केवल सरकार को बेचे जाते हैं, इसलिए यह स्पष्ट है कि भारत सरकार और इसकी एजेंसियों ने विपक्षी नेताओं, पत्रकारों, वकीलों और एक्टिविस्टज़ के फोन हैक करने के लिए यह स्पाईवेयर खरीदा था। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने ऐसा करके न केवल भारतवर्ष की छवि धूमिल की है बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ भी किया है। आज इस देश में संविधान और कानून, दोनों की हत्या मोदी सरकार द्वारा की जा रही है, प्रजातंत्र को पैरों तले रौंदा जा रहा है और देश के नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षा ने कहा कि समाचारों से खुलासा हुआ है कि मोदी सरकार ने लगभग 300 लोगों की जासूसी करवाई जिसमें श्री राहुल गांधी, देश की सीमा पर हमारी सुरक्षा करने वाली सुरक्षा एजेंसियों,  सहित इनके खुद के मंत्री भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इस स्पाइवेयर का प्रयोग राजनैतिक खेल खेलने और सरकारें गिराने के लिए किया जा रहा है। न केवल कर्नाटक में कांग्रेस समर्थित सरकार को गिराने के लिए भी भाजपा ने यही हथकंडे अपनाये थे, बल्कि पिछले लोक सभा चुनावों मेें जासूसी यंत्र का दुरूपयोग किया गया था।

कुमारी सैलजा ने बताया कि पेगासस सॉफ्टवेयर कोई मामूली सॉफ्टवेयर  नहीं है इससे इंटरनेट और ब्रॉडबैंड को भी इंफैक्ट किया जा सकता है। लेकिन मोदी सरकार इसके बारे में सच्चाई बताने से परहेज कर रही है। यानी इस देश के लोग अपने टेलीफोन पर, यूट्यूब पर क्या देखते हैं, क्या मैसेज करते हैं, क्या सर्च करते हैं, उन सब पर सरकार नजर रख सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसा करना आईटी अधिनियम के तहत एक आपराधिक गतिविधि है।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षा ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा इजरायली जासूसी यंत्र को असंवैधानिक तरीके से प्रयोग करने का कांग्रेस पार्टी पुरजोर विरोध करती है और मांग करती है कि पेगासस स्पाइवेयर की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में या जेपीसी द्वारा जांच करवायी जाये ताकि देश व दुनिया को असलियत का पता चल सके। इसके साथ कांग्रेस पार्टी की यह मांग भी है कि गृह मंत्री श्री अमित शाह, जो इसके लिए सीधे तौर पर जिम्मेवार है, तुरंत इस्तीफा दें।

इस अवसर पर पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री चंद्रमोहन, विधायक श्री प्रदीप चौधरी, श्रीमती शैली चौधरी, श्रीमती रेणु बाला, श्री शीशपाल केहरवाला, पूर्व संसदीय सचिव चौ. रामकिशन गुर्जर, प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्षा श्रीमती सुधा भारद्वाज, कोषाध्यक्ष श्री रोहित जैन, मीडिया इंचार्ज श्री निलय सैनी, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता संजीव भारद्वाज, रमेश बामल, अजय सिंगला, बालमुकुंद शर्मा, पंचकूला से पूर्व मेयर श्रीमती उपेन्द्र कौर वालिया, रणधीर सिंह राणा, श्याम सुंदर बत्तरा आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post लोकतंत्र ‘और सविधान’ की हत्या कर जासूसी कर रही सरकार जगदीश शर्मा
Next post शहीदों की चिताओं पर राजनीति करने वाली भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश सरकार राज्य के उन स्वतंत्रता सैनानियों  की पहचान के लिए भी कुछ करना चाहिए: योगेश्वर शर्मा